आठ माह से ख़राब हैंडपंप दो दिन में सुधरा एक फोन काल पर

by

यह सफलता की कहानी है झांसी शहर के वार्ड पिछोर में स्थित सकिपुरा मुहल्ले की, जहाँ पर आदिवासी सहरिया समुदाय के लोग अधिसंख्य में निवास करते है | इस मुहल्ले में पीने के पानी (पेयजल) के अलावा अन्य कार्यो के लिए पानी की बड़ी समस्या रहती है| लोगों को हाइवे पार करके पानी की व्यवस्था करनी पड़ती है, तभी घर का चूल्हा और अन्य दैनिक कार्य हो पाते हैं |

12 अगस्त 2016 को प्रिया के कार्यकार्ता बृजेश ने बस्ती विकास समिति के लोगो के साथ बैठक की | चर्चा के दौरान निकलकर आया कि बस्ती में लगा हेंडपंप काफी लम्बे अरसे से ख़राब पड़ा हुआ है और सभी लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है | बस्ती में यह समस्या काफी पुरानी है और इसका हल भी नही निकल रहा है इसलिए बृजेश ने तय किया कि वह हेंडपंप सुधरवाने की प्रक्रिया का पता लगाएगें और लोगो को सूचित करेगे |

इस क्रम में अगले दिन बृजेश जल निगम के शिकायत प्रकोष्ठ के फोन नम्बर की जानकारी मुहल्ले के लोगो को देते है और कहते है कि इस नम्बर पर फोन लगाओ | लोग थोड़ा सकुचाते है और डर महसूस करते हुए कहते है कि अगर दूसरी तरफ से साहब ने डांट दिया तो…… |

इस पर बृजेश ने बस्ती विकास समिति के सदस्य लखनलाल का होसला बढ़ाते हुए कहा कि एक बार फोन लगाओ, देखते है अधिकारी क्या बोलते है | लखन के फोन लगाने पर विभाग से हेंडपंप के ख़राब होने की जानकारी मांगी गयी और उनको आश्वाशन दिया गया कि दो दिन भीतर आपका हेंडपंप सुधार दिया जायेगा |

इस कदम से बस्ती में पेयजल की किल्लत ख़त्म हुयी है वहीं समुदाय के लोगो में विशवास हुआ कि जो काम दो दिन में हो सकता था उसके लिए उन्हें आठ माह तक इंतजार करना पड़ा|

Sakipura Jhansi

बस्ती विकास समिति, सकीपुरा (वार्ड 29, झांसी) द्वारा हैण्डपंप ठीक करवाने के अनुभव का विडियो देखें

https://www.youtube.com/watch?v=7c0eY6vhpVg&feature=youtu.be

1 vote

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*