केस स्टडी – कचरे के ढेर में खोया नौनिहालों का कल

by |

मेरा नाम क्रांति है, मैं 12 वर्ष की हूँ और पढ़ना चाहती हूँ , मेरा मन भी स्कूल जाने को करता है पर नहीं जा पाती। स्कूल चली जांऊँगी तो घर का काम कैसे चलेगा? छोटे भाई को कौन संभालेगा? और मैं कचरा बटोरने भी तो जाती हूँ उसे बेचकर कुछ पैसा मिलता है तो […]

Read more