उम्मीदों की ओर बढ़ते कदम

by |

ये कहानी गुडगाँव की लम्बी लम्बी इमारतों के बीच बसी एक बस्ती से है | मार्च महीने की सात तारीख को सरिता के घर में बड़ी हलचल थीए सब लोग ऊपर से लेकर नीचे तक भागादौड़ी में लगे थे| नीचे खाना बन रहा था और ऊपर छत पर टेंट लगा हुआ था| ऐसा लग रहा […]

Read more


Freedom-n-Responsibility

by |

“We are taught not to interfere with others; दूसरों के पचड़े में न पड़े. But this is not right; अन्याय के खिलाफ चुप नहीं रह सकते; we have duties and responsibilities towards society” – youth voice from Jaipur “बोल के लब आज़ाद हैं तेरे…Engage, speak, join…we are the future” – youth voice from Delhi “Why […]

Read more