Home / Feature Story

Feature Story                                

मोहल्ला विकास समिति की सफलता की कहानी

Sanju Devi, member of the Settlement Improvement Committee (SIC) in Pokhariya Peer, Ward no. 32, Muzaffarpur, is happy. Since her community has come together, the settlement has improved. No one, she proudly declares, feels discomfort living here now, because the SIC has raised the demand for municipal workers to clean the surroundings. Drains are being unblocked and garbage is being collected. This is the result of PRIA's ongoing work in Muzaffarpur under its programme, Engaged Citizens, Responsive Cities.



"जब से हम संगठित हुए हैं तबसे हमारे बस्ती में काफी बदलाव आया है। आज हमें खुशी है कि अब हमारी बस्ती में कोई आने से घृणा नहीं करंेगे।"........... संजु देवी (बस्ती विकास समिति सदस्यद्ध)

पोखरिया पीर वाॅर्ड 32 एक ऐसा स्लम जो विगत 70 वर्षो से बसा हुआ है। वहाॅ लगभग 325 परिवार निवास कर रहें हैं जिसमें विभिन्न जाति एवं समुदाय (अनु0 जाति, पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यकद्ध) के लोग हैं। उनका व्यवसाय मुख्यतः चमड़े का कारोबर है, जिसमें जुता चप्पल बनाना एवं दैनिक मजदूरी करना है। यहाॅं अधिकतर घर कच्चें हैं। यहाॅं केवल 8 घरो में शौचालय है एवं नाले की स्थिति बहुत खराब कही जा सकती है।


Ward Councillor and SIC members, animators during community meeting

वगत छः माह से प्रिया संस्था इस पर कार्य कर रही है। जिसमें स्वच्छता को लेकर वहाॅं के लोगों से बात करना, संगठन बनाना, कोर कमिटि का प्रशिक्षण इत्यादि विभिन्न काम कर रही है।

उपरोक्त कार्य को करने हेतु मोहल्ला विकास समिति का गठन कराने के क्रम में बहुत सारी समस्याॅएं आयी जिसमें वहाॅं के लोग मानसिक रुप से तैयार नहीं हो रहें थें, चूकि वहाॅं महिला पुरुष में भेदभाव की समस्या काॅफी जटिल थी। इसके बाद वहाॅं के लोग बातों को समझ नहीं पा रहे थे साथ ही अपनी बातों को सही ढ़ंग से रख नहीं पा रहें थे , साथ ही उनलोगों में आपसी तालमेंल की कमी थी। फिर प्रिया संस्था के सदस्यो ने वहाॅं लगातार भ्रमण कर वहाॅं के लोगों को विश्वास मे लेने एवं अपनी बातों को रखने की कोशिश करते रहें। प्रिया संस्था के अथक प्रयास स्वरुप मोहल्ला विकास समिति का गठन करने में सफलता मिली।

समिति के गठन के बाद लगातार मासिक बैठक किया जाता रहा। इस बैठक में बहुत सारी समस्याॅंए आती रहीं फिर भी बैठक जारी रहा। इसी बैठक के दौरान समस्याओं का समाधान भी होता रहा। प्रिया संस्था के द्वारा मोहल्ला विकास समिति का एक दिवसीय प्रशिक्षण किया गया। प्रशिक्षण में सभी सदस्य उपस्थित हुए और उस प्रशिक्षण के दौरान स्लम के विकास हेतु नाला उगाही को कराने के संबंध में विशेष चर्चा की गई, जिसमें सभी सदस्यों ने यह तय किया कि हमलोग और संस्था के सहयोग से इस कार्य को पुरा करेंगें। दिनांक 12/09/2016 को बस्ती विकास समिति द्वारा आम सभा बुलवायी गयी। जिसमें लगभग 150 लोगों की भागीदारी हुई एवं फैसला लिया गया कि वाॅर्ड पार्षद श्री रामेश्वर पासवान से बात करके उनको इस समस्या से अवगत कराया जाए। इसके लिए मोहल्ला विकास समिति के सदस्यों ने वाॅर्ड पार्षद कोू आमंत्रित किया एवं समस्या से अवगत कराया। नाला होने के बावजूद भी उसको मिटृटी से जाम कर दिया गया था ।


Situation Of Nallah before action
  जिसके कारण बस्ती वालो के घरों में पानी जमा हो जा रहा थां।इससे बहुत परेशानी हुई। पहले जब मोहल्ला विकास समिति नहीं था तब भी कइ बार लोगो ने वाॅर्ड पार्षद को समस्या से अवगत कराया था, परन्तु बात नही बन पा रही थी। नाला में मल भी आ रहा था, इसलिए जिनके घर के दरवाजे के पास से नाला गुजर रहा था,  
Situation of Nallah after action taken
उन्होने बन्द करवा रखा था ओर यही कारण है कि मोहल्ले में आपसी विवाद उत्पन्न होता रहता था अेैेर यही वजह है की वाॅर्ड पार्षद चाह कर भी कुछ नही कर पा रहे थें।

परन्तु जब बस्ती विकास समिति कियाशील हुई और प्रिया के एनिमेटर रीमा ओर विश्वास कुमार की लगातार उपस्तिथि की वजह से समुदाय मे लोगो की सोच में सकारात्मक बदलाव आया व वाॅर्ड पार्षद ने भी इस बात को माना है कि यदि प्रिया का सहयोग रहा तो यहाॅं हालात बदलने मे परेशानी नहीं होगी और 12 सितम्बर को प्रिया के एनिमेटर एवं मोहल्ला विकास समिति के सदस्यों ने वाॅर्ड पार्षद से मुलाकात कर इस समस्या के समाधान हेतु आग्रह किया। 14 सितम्बर को वाॅर्ड पार्षद ने समुदाय के साथ बैठक की एवं 15 सितम्बर से नाला उगाही का काम प्रारंभ हो गया। उसमें समुदाय का सहयोग मिला एवं वाॅर्ड पार्षद ने भी अपनी तरफ से काफी सहयोग दिया। 16 सितम्बर को पुनः बैठक सह कार्य निरीक्षण हेतु वाॅर्ड पार्षद मोहल्लें में आयें एवं समुंदाय के गणमान्य व्यक्तियों के साथ मुलाकात की । इनमेंसे एक व्यक्ति श्री दिग्विजय कुमार ने समुदाय के लोगों के व्यवहार में बदलाव लाने हेतु एक सकारात्मक पहल की, कि जो व्यक्ति शौचालय टंकी भर जाने के डर से शौचालय का नियमित उपयोग नहीे करते ह ै उन्हें डरने की आवश्यकता नहीे है, क्योकि जो लोग शौचालय का नियमित उपयेग करेगे उनका टैंक भर जाने के बाद टैक सफाई हेतु 500 रु दिए जाऐंगंे।

मोहल्ला का क्षेत्र काफी बड़ा होने से लगभग एक सप्ताह तक सफाई कार्य चलता रहेगा। इस प्रकार पोखरीया पीर के मोहल्ला विकास समिति का यह कार्य काफी सराहनीय है एवं दूसरे मोहल्ला विकास समिति के लिए प्रेरणा स्त्रोत है।


Project: Engaged Citizens, Responsive Cities, supported by EU India (2016-1019), which aims to  stengthen civil society of the urban poor to participate in planning and monitoring of sanitation services in Indian cities 

Feature Story